Dil ko zakhm diye aise


दिल को ज़ख्म दिए ऐसे उसने जिसकी कोई दवा नहीं,
सज़ा मिली हमें उसकी जो हमारी खता नहीं,
फिर भी तड़पता है ये दिल हर पल उसके लिए,
जो तक़दीर में हमारी लिखा नहीं।

Dil ko zakhm diye aise usne jiski koi dawa nahi,
Sajaa mili hume uski jo hamari khataa nahi,
Phir bhi tadapta hai ye dil har pal uske liye,
Jo taqdeer mein hamari likha nahi



Source link

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *